बैठता वही हूँ जहाँ अपनेपन का एहसास है मुझको यूँ तो ज़िन्दगी में कितने ही लोग आवाज़ देते है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *